Sunday, July 20, 2008

मीडिया, अंधविश्वास और कलियुगी धर्म

अनुरोध : किसी को ठेस पहुँचाना मेरा मकसद नहीं। ये लेख निष्पक्ष हो कर पढें।
धर्म पर मैं पहले भी काफी बार लिख चुका हूँ। कभी धर्म का मतलब जानना चाहा (http://tapansharma.blogspot.com/2007/01/blog-post_4643.html) तो कभी धर्म व क्षेत्रवाद से भारत को टूटने से बचाने पर जोर दिया (http://tapansharma.blogspot.com/2008/03/un.html)। इस बार थोड़ा और आगे बढ़ेंगे।

हम २१वीं सदी में जीते हैं। आज मीडिया पर भी कहूँगा और धर्म को व्यवसाय बनाने वाले लोगों के बारे में भी कहना चाहूँगा। पिछले कुछ समय से टीवी पर साई बाबा की खबरें खूब जोर शोर से दिखाई जा रही हैं। कभी कुछ चमत्कार दिखाया जाता है, कभी कुछ। कभी उनकी आकाश में तस्वीर बनती दिखाई जाती है, तो कभी उनकी एक आँख खुली हुई होती है(http://www.orkut.co.in/CommMsgs.aspx?cmm=141335&tid=5224298292176437798)। ऐसे ही अनगिनत करिश्में रोजाना हम इंडिया टीवी, आजतक और IBN जैसे हिन्दी चैनलों पर देख सकते हैं। मेरा कहना है कि ऐसा पहले क्यों नहीं हुआ? अब ही क्यों हर दिन नये नये खेल हो रहे हैं? हर रोज साईं बाबा का ही जिक्र क्यों? क्या चाहते हैं उनके अनुयायी? मीडिया का इस्तेमाल कर क्या बेच रहे हैं उस महान संत को?मेरी शिकायत है धन के लालची व टी आर पी के चक्कर में फँसे चैनलों से व बाबा के उन समर्थकों से जिन्होंने धर्म को बेच दिया। उस संत महात्मा को तो पता भी न होगा कि उसके नाम का कैसा दुरुपयोग हो रहा है!!!ये २१वीं सदी है(?)

ये तो बात हुई मीडिया की धर्म बेचने वालों से साठ-गाँठ की। आजकल रात को ११ बजे के बाद न्यूज़ के चैनलों पर एक ही खबर होती है। कहीं पर खौफ होता है तो कहीं काल, कपाल, महाकाल के चर्चे, कहीं कब्रिस्तान दिखाया जाता है तो कहीं श्मशान पर तप करते अघोरी। अगर हम २१वीं सदी में हैं तो खबरिया चैनलों को चाहिये कि ऐसे अंधविश्वासों को बढ़ावा न दे। परन्तु होता इसके उलट ही है। इन चैनलों को पता है कि लोग यही सब देखना पसंद करते हैं, अगर ये सच दिखायेंगे तो इन्हें डर है कि कहीं टी.आर.पी न गिर जाये। इन्हें "भूतों" को बेचना है, चुडैलों से लोगों को डराना है। इंडिया टीवी ने कुछ साल पहले नकली बाबाओं को पकड़ा था, लेकिन लगता है कि भूतों ने अब इनके स्टूडियो में डेरा जमा लिया है। इन चैनलों ने अपनी सारी सीमायें तोड़ दी हैं।

डेरा की बात चली है तो बात करते हैं बाबा राम रहीम के डेरे की भी। मेरी समझ में नहीं आ रहा है कि आत्मिक ज्ञान देने वाले संतों के शिष्य इतने लड़ाके कैसे हो सकते हैं? हैरानी की बात ये है कि ये बाबा भी अपने शिष्यों को शांत नहीं कराते हैं। क्या ये ज्ञान फर्जी बाँटा जाता है? क्या ये संतों का ड्रामा भर है? क्या ये पंजाब हरियाणा में फैल रहे दंगे फ्सादों को बंद नहीं करवाना चाहते? क्या चाहते हैं बाबा? लोगों को प्रेम का ज्ञान बाँटने वाले ये बाबा हिंसक कैसे हो जाते हैं? क्या लोग ही नहीं सुनते उनकी? सारा ज्ञान बेकार? डेरा से निकल कर अहमदाबाद पहुँचें तो पायेंगे कि एक और बाबा के भक्तों का बडा वर्ग गुस्से में बैठा है। यहाँ आग भड़की है आसाराम बापू के आश्रम में हुई २ बच्चों की मौतों के बाद। लोग आक्रोश में हैं और उनसे भिड़ रहे हैं बापू के शिष्य। उस पर इस संत का बयान ये कि "गुरु पर हमला होगा तो शिष्य चुप क्यों बैठेंगे?" । यानि सीधा सीधा आज्ञा दे दी है कि जो करना है करो। तोडफोड करनी है करो। मीडिया ने कुछ समय पहले ६-७ बाबा लोगों का पर्दाफाश भी किया था, किन्तु उन बाबाओं के (अंधे) भक्तों ने ये सब मानने से इंकार किया। हम २१वी सदी में हैं!!

एक दोहा पढ़ा था कभी, "गुरू गोविंद दोऊ खडे काके लागू पाये, बलिहारी गुरू आपने गोविंद दियो बताये"। गुरु को ईश्वर का दर्जा दिया गया है। ईश्वर प्रेम सिखाता है। किन्तु क्या ईश्वर इतना निर्दयी हो गया है कि अब दंगे फसाद करवाने लगा है। ये धर्म है जो हत्यारा है मासूमों का, ये धर्मगुरू हैं कातिल ईश्वर के!!!इन्होंने धोखा दिया है करोडों लोगों के विश्वासों को। ये खूनी हैं उस आत्मा के जो मिलना चाहती है परम-आत्मा से...ये २१वीं सदी भी है, यहाँ झूठा मीडिया भी है जो कभी अँधविश्वास से दूर रहने का ढोंग करता है तो कभी उसी अँधविश्वास की थाली लोगों को परोसता है। यहाँ करोडों (अँध) विश्वासी लोग भी हैं जिन्हें पता ही नहीं चल पाता है कि उनके साथ कैसा विश्वासघात हो रहा है। और यहाँ ऐसे (सद?)गुरू भी हैं जो फायदा उठाते हैं ऐसे लोगों का... ये कलियुग है..ये कलियुगी धर्म है...यहाँ कलियुगी धर्मात्मा हैं..ये २१वीं सदी है..(???)!!!

4 comments:

Sandeep said...

टी वी का तो बहिष्कार कर देना चाहिए...इससे बढ़िया तो इन्टरनेट है...कम से कम आप वह ही देखते हैं जो की आप चाहते हैं| बाकी हमारे समाज के बारें में वही दोहराना चाहूँगा .... बहुत कमियाँ हैं...बहुत दूर जाना है|

Mired Mirage said...

दुख की बात तो यह है कि जिनकी बात लोग आँख मूँदकर मान लेते हैं वे लोगों को प्रेम प्यार, सहयोग मित्रता की बातें नहीं सिखाते।
घुघूती बासूती

सजीव सारथी said...

तपन भाई सटीक बात है, दरअसल दुःख इस बात का है इतने सारे समाचार चैनल है पर एक भी bbc के स्तर के आस पास भी नही है, न ख़बरों की गुणवत्ता, न प्रस्तुति न भाषा सही, यहाँ तक कि विज्ञापन भी रद्दी ....कुल मिला कर हिन्दी खबरिया चैनल किसी c darje की सड़क chaap फ़िल्म देखने जैसा है

Smart Indian said...

तपन जी,
आपकी बात बिल्कुल सही है. यह नए बाबा लोग (और पुराने बाबाओं को बेचकर धंधा करे वाले नए व्यवसायी भी) लोगों के लालची स्वभाव का पूरा फायदा उठाते हैं - बाबा की शरण में आकर न सिर्फ़ आपकी सारी कामनाएं पूरी होंगी आपका परलोक भी बिना किसी सत्कर्म के सुधर जाता है.