Sunday, August 28, 2011

क्या आप जानते हैं कि चीन की महान दीवार कितनी लम्बी है? Great Wall of China, Some Interesting Facts - Did You Know?

भारत के विभिन्न पर्यटन शहरों के बारे में तो हम जानते ही हैं किन्तु पड़ोसी को भी थोड़ा बहुत जानना चाहिये। क्या आप जानते हैं कि चीन की महान दीवार कितनी लम्बी है? चीन की दीवार मिट्टी व पत्थर से बनी हुई है व उत्तरी चीन में स्थित है। कहते हैं कि इसे चीन के राजाओं ने उत्तरी देशों से बचाव के लिये बनवाया है।

चीन की लम्बी दीवार
यह लेख लिखने से पहले मैं सोचता था कि यह एक ही दीवार है जो चीन में फ़ैली हुई है। किन्तु इंटेरनेट पर पढ़ कर समझ में आया है कि यह कईं सारी दीवारों के टुकड़े हैं जो विभिन्न राजाओं ने अलग अलग काल में बनवाये हैं। दीवार बनवाने की शुरुआत पाँचवी शताब्दी (ईसा -पूर्व) यानि करीबन ढाई हजार पहले हुई। प्रमुख दीवारों में किन शि हुआंग नामक राजा की दीवार शामिल है जो उन्होंने 220 से 206 ईसा पूर्व के दौरान बनवाई। हालाँकि अब इस दीवार का छोटा सा हिस्सा ही शेष बचा है। मिंग शासन के दौरान सबसे ज्यादा हिस्सा बनकर तैयार हुआ।

चीन की दीवार पूर्व में शंहाईगुआन से लेकर पश्चिम में लोपलेक तक फ़ैली हुई है। यह दीवार 6,259.6 किमी ईंटों से, 359.7 किमी खाई व 2,232 किमी प्राकृतिक रक्षात्मक बाधायें जैसे पहाड़ियाँ व नदियाँ हैं। इस तरह इसकी कुल लम्बाई करीबन नौ हजार किमी तक पहुँच जाती है। कहते हैं कि मानव निर्मित यह एक ही ऐसी कृति है जो चाँद से देखी जा सकती है।

अन्य कुछ रोचक तथ्य:

  • भारत में सबसे ज्यादा बिकने वाला फ़ोन है नोकिया ये तो सभी जानते हैं। ये कम्पनी फ़िनलैंड की है और इसका नाम फ़िनलैंड के शहर एक नाम पर रखा गया है।
  • दुनिया में सबसे ज्यादा पोस्ट ऑफ़िस भारत में ही हैं। इनकी संख्या एक लाख से भी अधिक है।
  • मिस्र के पिरामिड विश्वविख्यात हैं। किन्तु ये कम ही लोगों को पता है कि मिस्र से अधिक पिरामिड पेरू (दक्षिण अमरीका) में हैं।
  • जमाइका में 120 नदियाँ हैं व सऊदी अरब एक ऐसा देश है जहाँ एक भी नदी नहीं है।
  • ऑस्ट्रेलिया विश्व का एक मात्र महाद्वीप है जहाँ एक भी ज्वालामुखी नहीं है।
  • ब्राज़ील दक्षिण अमरीका महाद्वीप का एक देश है जो महाद्वीप का पचास फ़ीसदी हिस्सा है।  ब्राज़ील का नाम एक पेड़ के नाम पर रखा गया है।


क्या आप जानते हैं के अन्य लेख पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें। आपको यह श्रॄंख्ला कैसी लग रही है अवश्य बतायें।

जय हिन्द
वन्देमातरम

13 comments:

JAIPUR TOURISM said...

JAIPUR TOURISM Tourism: Yesterday, Today and TomorrowTourism, the act of paying money to go from one place to another to see different and unique sights, has been a fact of civilized life since approximately the 12th century. Of course, back in those days it was basically the upper, upper classes that had the time, the money.

Jeetsinha97 said...

kaphi achhi jankari thi.
Thank You

Unknown said...

Famous place so nice
Ghanshyam Rajwade
Unchdih Surajpur cg

Unknown said...

Nice place
9754558533

Unknown said...

I love my India

Unknown said...

Vande maa taram

Unknown said...

vandematram...v.nice

Unknown said...

Very very good and jai hind jai bahart vandematram

Unknown said...

Muje Ye sries bhut achhi lagi

Unknown said...

Post के अंत में आपने लिखा है कि- क्या आप जानते हैं के अन्य लेख पढ़ने के लिये यहाँ क्लिक करें। जिसके लिए आपने link नहीं दिया है इसलिए कृप्या link दें।

kjhlknh; said...

Is diwar ke bare me kisi krur shashak fahyan ya phir koi tha jiski krurta vishwvikhyat thi usne apna shashan lambe samay tak chalañe ke liye waha sjksha vyavastha ko khatm kar diya tha kitabe jala di gayi aur shikshako Ko chun chun kar mar diya Gaya

kjhlknh; said...

Is diwar ke bare me kisi krur shashak fahyan ya phir koi tha jiski krurta vishwvikhyat thi usne apna shashan lambe samay tak chalañe ke liye waha sjksha vyavastha ko khatm kar diya tha kitabe jala di gayi aur shikshako Ko chun chun kar mar diya Gaya

Unknown said...

Good.